Category Archives: Sectarianism

अलिग सीनियर्स और शिक्षकों के नाम एक जूनियर का खुला ख़त:

आदाब (90 डिग्री), जनाब।

मुसलमानो में दोहरे मापदंड की ऐसी स्थिति बन चुकी है जिससे उच्च शिक्षा प्राप्त से लेकर अंगूठा छाप तक ग्रस्त और लोग उनसे त्रस्त हैं। ‘दलाल’ का सर्टिफिकेट तो हम पहले से छपा कर रखते हैं, बस उसपर नामVictoria Gate, AMU भर भरना रहता है। अब ये स्क्रीन शॉट ही देखिए, ज़फर सरेशवाला कोई है, उसपर हमारे सीनियर हज़रत की प्रतिक्रिया। इसके ठीक विपरीत अपने ही इदारे के जिम्मेदारों द्वारा हो रहे भरष्टाचार, धांधली पर कभी किसी ‘तथाकथित और सर्वमान्य सीनियर’ हज़रत की तरफ से कोई आपत्ति या प्रतिक्रिया आम तौर पर नहीं आती। जनाब, पूरी दुनिया सरेशवाला के कृत्य और विचार से अवगत है, आप दुनिया को उससे अवगत क्यों नहीं कराते जिसकी ज़िम्मेवारी सर सय्यद ने आपके हवाले की थी और क़ौम-ओ- मिल्लत की रहनुमाँ के तौर पर सींचने के लिए अपने जीवनकाल में ‘इख्वानुन्नफसा’ की स्थापना की थी। सय्यद ने ‘असबाब बग़ावत-ए-हिन्द’ लिख कर अंग्रेजों के मुंह पर वो तमाचा जड़ा की अँगरेज़ बिलबिला कर रह गए लेकिन सर सय्यद के किरदार और क़लम को नकार नहीं सके। वो आपका/हमारा किरदार दुनिया को क्यों नहीं परोसते। हमारी कमज़ोर आवाज़ दुनिया के खिलाफ उठती भी है तो अमुवि प्रशासन की धांधलियों के खिलाफ क्यों नहीं उठती। इसके विपरीत ‘दायें और बाएं महाज़’ पर हमारा प्रहार इतना ज़बरदस्त क्यों होता है। अमुवि आज एक ऐसे मोड़ पर खड़ा है जहाँ से शायद सबकुछ बदल जाये, इस बदलाव की ज़िम्मेदारी मेरी, आपकी और पुरे मिल्लत इस्लामिया पर जायेगी। अपने आपको भी ज़िम्मेवार मानते हुए मैं कुछ सवाल अपने सीनियर और अमुवि के शिक्षकों से करना चाहता हूँ और मैं चहुंगा की वो भी मुझसे पूछें: Read the rest of this entry

Joint Shia-Sunni Namaz in Lucknow

Joint namaz at SibtainabadThe Shoulder to Shoulder movement which started in Delhi has now reached Lucknow. A joint Shia-Sunni Eid-ul-Zuha namaz was offered at Imambada Sibtainabad in the city today. The event has been creating a buzz on the social media during the last few weeks.

The prayer was led by a Sunni Imam, Maulana Shehzad, and the participants included Shia cleric Maulana Kalbe Sadiq.

It’s a welcome change from the regular dividing news coming out of the Muslim community. Let’s hope we see more of this peaceful efforts.

Eid mubarak to all!

 

Muslims should learn to respect each other

No one has a right to declare that Shiism or Sunnism is false and heretical.

One of the major differences between Shia and Sunni traditions is about the role of leadership. When Prophet Muhammad (pbuh) was returning from his last pilgrimage, he gathered the caravan at an oasis called Ghadir Khumm and delivered a revelation, that as of this day he has delivered the complete guidance from God, the message of Islam is complete now.

That message was and is crystal clear; there is no misunderstanding about it. There is no more advisement from God, and nothing more needed to added to the religion, it’s done. However, the tag part of that message was understood in two different ways. Read the rest of this entry

Let’s be just Muslims Again

Three news items caught my attention recently: A suicide bombing in Afghanistan killed 89 people, blowing of religious places by ISIS in Iraq and a letter by a prominent cleric in India to the ISIS chief. All three incidents involved Muslims!

This is the state we are in today as a community. Even during the holy month of Ramadan we’ve not given peace a chance.

While nobody claimed the bombing in Afghanistan, it’s mostly Taliban behind such attacks in the country. Which Muslim would do that in such a month! If it’s indeed Taliban then they have further alienated themselves. This has been a trend of sorts during the last few years in Afghanistan and Iraq.
Read the rest of this entry